News

नोटबंदी के इस दौर में दूल्हे-दुल्हन को उनके दोस्त ने ऐसा गिफ्ट दिया की शादी में आए हुए सब लोग देखते रह गए

नोटबंदी के बाद से पुरे देश में पैसो के लिए लोगो को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नोटबंदी की वजह से लोग पूरा दिन बैंको और एटीएम की लाइन में लगकर अपना पूरा दिन बर्बाद कर देते है जिससे सब लोग परेशान है। अगर किसी को 500 या 2000 के छुट्टे मिल जाए तो उसके लिए यह बहुत बड़ी बात है। बहुत से लोग तो केंद्र सरकार के इस फैसले का विरोध कर रही है और वही बहुत से लोग समर्थन भी कर रहे है। परंतु नोटबंदी के बाद से यह जरूर देखा जा रहा है कि हमारे देश में शादीओ कि चमक-धमक बहुत कम दिख रही है, और ये होगी भी क्यों नहीं क्योंकि एक शादी में बहुत खर्चा होता है। लेकिन नोटबंदी के बाद भी जहा लोगो के पास पैसे नहीं है वही सीतापुर में हुई एक शादी में किसी ने ऐसा गिफ्ट दिया कि दूल्हा-दुल्हन समेत शादी में आए सारे मेहमान देख कर दांग रह गए, और यह ज़िन्दगी भर सबको याद रहेगा।


दरअसल, सीतापुर से लगभग 25 किमी दूर हरगांव इलाके में पीयूष और अनु नाम के जोड़े की शादी थी। और आप सब को पता ही है नोटबंदी के बाद से लोग शादी में कुछ अच्छे गिफ्ट नहीं दे पा रहे क्योंकि उनके पास पैसे नहीं है। लेकिन फिर भी मेहमानों ने अच्छे-अच्छे गिफ्ट दिए। परंतु उन्ही सब गिफ्ट में से एक ऐसा भी गिफ्ट था जिसे सब लोग देखते ही रह गए। जब दूल्हे का दोस्त विवेक ने उसे दस हज़ार की नकदी 100, 50, और 10 के नोट के रूप में गिफ़्ट में दी। इस गिफ्ट को देख कर दूल्हा-दुल्हन बहुत ही खुश हुए।


गिफ़्ट पाकर खुशी से फूले न समाने वाले दूल्हा पीयूष और उनकी पत्नी अनु का कहना था कि नोटबंदी के इस दौर में शायद ही किसी मेहमान ने इस तरह का कोई तोहफ़ा किसी को कहीं भेट किया होगा।


दूल्हे के दोस्त विवेक वाजपई ने गिफ्ट देने के बाद एक मजेदार बात कही। उन्होंने कहा अभी मेरे दोस्त कि नयी-नयी शादी हुई है और नोटबंदी के बाद उसको काफी परेशानी झेलनी पड़ेगी बैंको और एटीएम कि लाइन में लगकर वो अपना नया-नया जीवन बिताएगा या फिर ये सब ही करता रहेगा इसलिए मैने सोचा कि टूटे पैसे गिफ्ट करदु ताकि वो बैंक के चक्कर न लगाए।


दूल्हे राजा पीयूष  भी अपने इस दोस्त के गिफ्ट देखकर बहुत खुश हुए और उन्होंने बोला इस समय देश में करंसी को लेकर दिक्कत आ रही है और उनके दोस्त ने ये गिफ्ट देकर उनकी बहुत मदद की है।

Most Popular

To Top